top of page
Search
  • Writer's picturekuldeepanchal9

वाणी की महत्ता

परमेश्वर ने दो कर कमल सद्कर्म करने के लिए, दो चरण अग्नि पथ पर चलने के लिए. दो नेत्र अच्छा व् बुरा देखने के लिए, दो कर्ण अच्छा व् बुरा सुनने के लिए दिए हैं तथा एक वाणी दी है जो मुखाविंद में बंद रहती है लेकिन उस पर मानव का नियंत्रण नहीं है उस वाणी से मनुष्य कटु व् मीठे शब्दों की वर्षा करके किसी को शत्रु व् किसी को मित्र बनाता है यह हम पर निर्भर करता है कि हम शत्रु बनाये या मित्र

*** डॉ पांचाल



41 views0 comments

Recent Posts

See All

धनी मनुष्यों के महंगे शौक

महंगे जूते वही खरीदते हैं जो चंद कदम ही पैदल चलते हैं महंगी घड़ियाँ वही खरीदते है जिनके पास समय देखने के लिये भी समय नहीं होता महंगी गाड़ियां भी वही खरीदते हैं खरीदने वाले से अधिक सवारी ड्राइवर के भाग्य

Comentários


Post: Blog2_Post
bottom of page