top of page
Explore
Untitled
Home: Welcome

Subscribe Form

Thanks for submitting!

Home: Subscribe
Home: Blog Post Gallery
Home: Instagram
Search

चरित्र निर्माण

मनुष्य को चरित्र निर्माण करने के लिए स्वयं की आकांक्षाएं व् अपने मन मस्तिष्क में उत्पन्न सभी इच्छाओं का दमन करना होता है | चरित्र...

बहरूपिया मनुष्य

गिरगिट एक ऐसी प्रजाति है जो सामने वाले को देखकर रंग बदल लेता है लेकिन मनुष्य उससे भी अधिक माहिर है मनुष्य का चेहरा भी पल पल रंग बदलता...

वक्त बदलता है रक्त नहीं

मनुष्य के जीवन में अग्नि पथ पर चलते चलते वक्त बदलता रहता है लेकिन पूर्ण जीवन उसका रक्त नहीं बदलता | उसकी शिराओं में वही रक्त संचार करता...

जीवन दुष्कर बनाना

हम कभी भी किसी भी अपरिचित,दुष्ट,चोर व् कामी व्यक्ति को अपने घर में प्रवेश नहीं होने देते लेकिन मन मस्तिष्क में दूसरों के प्रति घृणा,छल...

किनारे आपस में कभी नहीं मिलते

कहते हैं कि नदी व् अथाह समुन्द्र के किनारे साथ साथ रहते हैं लेकिन कभी भी उनका आपस में मिलन नहीं होता ऐसे ही धरती व् गगन का कभी मिलन नहीं ...

अपने व् सपने

१५ से २० वर्ष की आयु में युवक/युवती के कुछ अपने होते हैं मन मस्तिष्क में कुछ सपने होते हैं समय व्यतीत होने के साथ साथ ३० वर्ष के पश्चात...

स्वयं द्वारा जीवन को कष्टमय बनाना

हम कभी भी किसी भी अपरिचित,दुष्ट,चोर व् कामी व्यक्ति को अपने घर में प्रवेश नहीं देते लेकिन मन मस्तिष्क में दूसरों के प्रति घृणा,छल कपट,...

नमक की महत्ता

नमक जीवन में अति आवश्यक है बिना नमक के जीवन की कल्पना व्यर्थ है नमक प्रत्येक दुःख दर्द व् परिस्थितियों का निदान भी करता है | आसूं, पसीना...

हिन्दुओं का अस्तित्व

इस मौसम में आंधी तूफ़ान का प्रकोप रहता है जिन वृक्षों की जड़ें कमजोर व् खोखली होती हैं उनके अस्तित्व को खतरा होता है | परमेश्वर, देवी देवता...

अति एक प्रेरणादायक या प्रशंसनीय शब्द है ?

अति एक अच्छा शब्द है लेकिन अति लगने से वाक्य का अर्थ व् समानार्थ अलग अलग हो जाते हैं जैसे अति सुंदर रूपवान युवक/युवती को दूसरों की...

आदर

आदर उसी मनुष्य का होना चाहिए जिसको मन मस्तिष्क से अपने दर पर आदर से आमंत्रित किया जा सके *** डॉ पांचाल #trendsetterdrpanchal#respect

सत्य सत्य में एक औषधि ही है

सत्य परमेश्वर की दृष्टि में न्याय दिलाता है,सत्य मन में संतुष्टि का संचार कर देता है,मन मस्तिस्क में नयी ऊर्जा प्रदान करता है, अच्छे बुरे...

पोषण व् शोषण

सृष्टि के आरम्भ से ही दोनों शब्द मनुष्य के जीवन में चरितार्थ हैं | परमेश्वर के अतिरिक्त मातापिता ही पोषण करते हैं हो सकता है कहीं अपवाद...

WHO ARE YOU

It doesn't matter what you achieve in the eyes of others no matter what your mental health or medical diagnosis is? Or how is your...

कौन हो तुम ?

इससे कोई प्रभाव नहीं पड़ता कि आपने दूसरों की दृष्टि में क्या प्राप्त किया इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका मानसिक स्वास्थ्य या चिकित्सा का...

आकर्षक स्वास्थ्य व् व्यक्तित्व के साधन

सूर्य की प्रतिदिन उपासना,प्रतिदिन ध्यान,जल का नियमित सेवन,प्राण अपान व्यायाम,संतुलित आहार मनुष्य के शरीर में स्थित तीनों प्रकृति कफ,पित्त...

मनुष्य व् पुष्प में समानता

प्रत्येक मनुष्य में कुछ गुणों का समावेश होता है कोई भी सर्वगुण संपन्न नहीं होता, हर मनुष्य पथ प्रदर्शक नहीं हो सकता यदि आपको कोई दुःख में...

Selfish like as a tree

Man's selfishness is like a tree, whose branches are deceit, hatred, jealousy, conspiracy, greed, etc. The branches of deceit etc. in the...

स्वार्थ एक वृक्ष की भांति होता है

मनुष्य का स्वार्थ एक वृक्ष की भांति होता है जिसकी शाखाएं छल,कपट,धोखा,द्वेष,ईर्ष्या,जलन,लालच इत्यादि हैं जैसे जैसे मनुष्य का स्वार्थ बढ़ता...

व्यवहार,समय,मौसम व् भाग्य में परिवर्तन

परिवर्तन या बदलाव प्रकृति का नियम है | कभी मौसम बदलता है, कभी समय बदलता है, कभी भाग्य बदलता है, कभी मनुष्य बदलते हैं, मनुष्य कहते हैं...

Home: Blog2
bottom of page